हिमाचल में इस मानसून सीजन में 113 लैंडस्लाइड, 330 की मौत

0
759

नेशनल डेस्क: हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में पिछले एक सप्ताह से जारी भारी बरसात (Himachal Rains) ने आपदा की घटनाओं को बढ़ा दिया है। इस मानसून सीजन में 55 दिनों में 113 बार लैंडस्लाइड (Lanslides)हुई है। इस अप्राकृतिक प्रकोप ने बारिश और लैंडस्लाइड के परिणामस्वरूप 330 लोगों की मौके पर मौत की चुकी है।

इस संदर्भ में, हिमाचल प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को स्टेट डिजास्टर की घोषणा करने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू (Sukhwinder Singh Sukhu) ने बताया कि यह घोषणा कुछ समय बाद नोटिफाई की जाएगी।

हालांकि, विशेषज्ञों का मानना है कि राज्य या राष्ट्रीय आपदा घोषित करने से इसका कोई वैधानिक अर्थ नहीं होता है। तथापि, इस कदम से केंद्र सरकार पर राष्ट्रीय आपदा की घोषणा करने का दबाव बन सकता है। मुख्यमंत्री सुक्खू ने बताया कि भारी वर्षा, बादलों के फटने और भूस्खलन की घटनाओं से प्रदेश में बड़ी हानि हो चुकी है। पेयजल, विद्युत आपूर्ति और सड़कों के साथ-साथ अन्य संसाधनों को भी नुकसान पहुंचा है। अब तक 12 हजार से अधिक घरों का नुकसान हो चुका है।

हिमाचल में लैंडस्लाइड के खतरे के क्षेत्र 17,120 हो गए हैं, जिनमें से 675 के आसपास व्यक्तिगत बस्तियां हैं। शिमला में कई सरकारी भवनों को भूस्खलन का खतरा है।

प्रदेश में 68 सुरंगें निर्मित की जा रही हैं, जिनमें से 11 पूरी तरह तैयार हैं, 27 निर्माण के प्रक्रियाशील हैं और 30 विस्तृत परियोजनाओं की रिपोर्ट तैयारी में हैं। इन परियोजनाओं में कई प्रोजेक्ट केंद्र से संबंधित हैं, जिससे प्रदेश में भूस्खलन के खतरे के क्षेत्र बढ़ सकते हैं।

(आप हमें फ़ेसबुकइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here