‘लव जिहाद’ पर मोदी सरकार का कड़ा प्रहार, धर्म छुपाकर संबंध बनाने वालों की खैर नहीं

0
559

नेशनल डेस्क: अपना धर्म छिपाकर महिला से संबंध बनाने वालों और धोखा देने वालों के खिलाफ मोदी सरकार कड़ा कानूनलेकर आ रही है। देश में आपराधिक कानूनों को और सख्ती से लागू करने के उद्देश्य से केंद्र सरकार ने तीन विधेयक पेश किए हैं। नए कानूनों के अनुसार, महिलाओं को धार्मिक पहचान छिपाकर धोखा देने और शारीरिक संबंध बनाने पर 10 साल की सजा का ज़िक्र है। इसके साथ ही, ऐसे अपराधियों के खिलाफ भारी-भरकम जुर्मानों का भी प्रावधान है।

नए कानूनों के अनुसार, अगर कोई व्यक्ति झूठे वादे करके या छल से किसी महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाता है, तो उसे दुष्कर्म के तहत माना जाएगा, और इसी श्रेणी में इस अपराध में सजा भी सुनाई जाएगी। इसके अलावा, अगर कोई व्यक्ति छल के इरादे से झूठे वादे करके किसी महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाता है, तो उसके लिए नए कानून में सख्त सजा का प्रावधान है।

यूपी, गोवा, और मध्य प्रदेश जैसे कई राज्यों में लव जिहाद के खिलाफ कानून पहले से ही प्रभावी हैं। इसके बावजूद, बढ़ते मामलों के संकेतों के कारण केंद्र सरकार ने भी सख्त कदम उठाने का निश्चय लिया है। नए कानूनों के तहत, अगर कोई धार्मिक पहचान छिपाकर महिला या लड़की से दोस्ती करता है और फिर शारीरिक संबंध बनाता है, तो इसे सहमति से बनाया गया संबंध माना जाएगा। शिकायत प्राप्त होने पर, इस पर कार्रवाई की जाएगी, और इसमें सजा के साथ भारी-भरकम जुर्मानों का भी प्रावधान है।

वर्तमान में, ऐसे मामले सामने आने के साथ, जिनमें महिलाओं की शिकायत होती है कि उन्हें धोखा दिया गया है, नए कानूनों के माध्यम से उन्हें न्याय मिलने की आशा है। अक्सर ऐसे मामलों में पुरुष अपनी पहचान छिपाकर दोस्ती का प्रस्ताव देते हैं, और फिर शारीरिक संबंध बनाते हैं। कई बार तो सालों बाद ही आरोपित की धार्मिक पहचान उजागर होती है। नए कानूनों के अनुसार, यदि कोई धार्मिक पहचान के बारे में झूठ बोलता है या छिपाता है, तो उसे अपराध की श्रेणी में दर्ज किया जाएगा, और सजा का भी प्रावधान नए कानूनों में किया गया है।

(आप हमें फ़ेसबुकइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here