चंद्रयान-3 ने भेजा चाँद का अनदेखा वीडियो

0
717

नई दिल्ली: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने छह पहियों और 26 किलोग्राम भार वाले “प्रज्ञान रोवर” (Pragyan Rover) के वीडियो को शुक्रवार को साझा किया। चंद्रयान-3 (Chandrayaan-3) के लैंडर के लैंडिंग के करीब 14 घंटे बाद, इसरो ने रोवर की सतह पर पहुंचने की पुष्टि की।

रोवर ने चंद्रमा की सतह पर पहुंचते ही सबसे पहले अपने सोलर पैनल को खोल लिया है। यह रोवर 1 सेमी प्रति सेकेंड की गति से चलता है और अपने नेविगेशन कैमरों का उपयोग अपने आस-पास की वस्तुओं की स्कैनिंग के लिए कर रहा है। रोवर की यात्रा 12 दिनों में लगभग आधा किमी की होगी।

प्रज्ञान रोवर के पीछे के दो पहियों पर भारतीय राष्ट्रीय प्रतीक अशोक स्तंभ और इसरो का लोगो स्थित है। जब रोवर चंद्रमा पर उतरता है, तो उसके पहियों ने चंद्रमा की मिट्टी पर इन प्रतीकों की छाप छोड़ी। इसके अलावा, रोवर में दो पेलोड भी हैं जो पानी और अन्य मूल्यवान धातुओं की खोज करने का काम करेंगे।

पहले इसरो ने चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से चंद्रयान-3 के लैंडर की तस्वीरों को भी साझा किया था। इसरो ने शुक्रवार को इसकी एक तस्वीर अपने ट्विटर हैंडल पर साझा की थी, लेकिन बाद में उसे हटा दिया गया। उस तस्वीर में विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह पर दिखाई देता है।

ये तस्वीरें चंद्रमा के ऑर्बिटर पर लगे हाई-रेजोल्यूशन कैमरे (OHRC) से की गई हैं। यह कैमरा चंद्रमा की ऑर्बिट में वर्तमान में मौजूद सबसे उच्च रेजोल्यूशन वाला कैमरा है। नासा का ऑर्बिटर भी चन्द्रमा की कक्षा में है, लेकिन उसका कैमरा इतना उच्च रेजोल्यूशन वाला नहीं है।

(आप हमें फ़ेसबुकइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here