Modi Surname Case: सुप्रीम कोर्ट से राहुल गाँधी ने माफ़ी ना मांगने पर जानिये क्या तर्क दिया

0
817

कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में मानहानि केस के मामले में एक हलफनामा दाखिल किया है जिसमें उन्होंने कहा है कि उनके खिलाफ लगाए गए मुकदमे को रफा-दफा करने के लिए वे माफी नहीं मांगेंगे।

राहुल ने इससे पहले भी सूरत अदालत द्वारा उन्हें मिली सजा को उचित नहीं माना था और उन्हें उम्मीद है कि देश की सर्वोच्च अदालत उनकी इस अपील को सही मानेगी। यह उनके लिए पहली बार है जब उन्होंने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि वे माफी नहीं मांगेंगे।

राहुल ने अपने जवाबी हलफनामे में भाजपा के विधायक पुर्णेश मोदी की भी आलोचना की है। पुर्णेश मोदी ने अदालत में दाखिल किए गए हलफनामे में राहुल को उनके बयान पर माफी ना मांगने के कारण उन्हें “अहंकारी” बताया था।

राहुल ने कहा कि वे इस सजा को रोकने की चाहत तो रखते हैं, ताकि वे सांसद के पद पर फिर से आ सकें, लेकिन इसके लिए वे माफी मांगने के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने कहा कि यह मामला असामान्य है, जिसमें एक छोटी सी बात के लिए बड़ी क़ीमत चुकाई जा रही है और उन्हें लंबे समय से निर्वाचित सांसद के रूप में अयोग्य ठहराया जा रहा है।

राहुल गांधी की अपील के तहत उनके वकील प्रशांत सेन, रजिंदर चीमा और अभिषेक मनु सिंघवी दायर कर रहे हैं। उन्होंने भरोसा जताया है कि सुप्रीम कोर्ट में उन्हें सफलता मिलेगी।

उम्मीद है कि चीफ जस्टिस बीआर गवई के अगुवाई वाली पीठ चार अगस्त को राहुल गांधी की अपील पर सुनवाई करेगी। 21 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात हाई कोर्ट के आदेश को नकार दिया था, जिसमें राहुल को दो साल की सजा पर रोक लगाने से इनकार कर दिया गया था।

(आप हमें फ़ेसबुकइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here