राज्यसभा में राघव चड्ढा पर लगा हेराफेरी का आरोप, संजय सिंह ने किया बचाव

0
653

नेशनल डेस्क: लोकसभा के बाद अब राज्यसभा में दिल्ली सेवा विधेयक के पास होने के बाद आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सदन में बौखलाए दिख रहे थे। उन्होंने राघव चड्ढा के नाम को विशेषाधिकार समिति में भेजने के मामले पर यह प्रश्न उठाया कि क्या सिर्फ एक व्यक्ति की सहमति की आवश्यकता होती है, जब किसी का नाम समिति में प्रस्तुत किया जाता है। उन्होंने गृह मंत्री से कहा कि वे झूठ और अफवाह न फैलाएं और यह मामला स्पष्ट तरीके से समझें।

इसके आगे, संजय सिंह ने अपने बयान में अमित शाह की तरफ से उठाए गए आरोपों का उत्तर देते हुए कहा कि उनकी पार्टी का काम ही है झूठ फैलाना। उन्होंने उनके दावों को झूठा बताया और कहा कि सभी दलों के सदस्यों की मिलकर चयन समिति तैयार की जाती है। राघव चड्ढा ने ध्यान में रखकर कुछ नाम प्रस्तुत किए हैं, और अगर उन्हें सहमति नहीं है, तो समिति में वो नाम शामिल नहीं किए जा सकते हैं। उन्होंने शाह को यह सिखाते हुए कहा कि सदस्यता के मामले में उन्हें सही जानकारी होनी चाहिए, क्योंकि जो व्यक्ति सदन का सदस्य नहीं होता, उसका नाम समिति में प्रस्तुत नहीं किया जाता।

संजय सिंह ने आगे बढ़ते हुए कहा कि अमित शाह ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ अफवाहें फैलाने का काम किया है और उन्हें विशेषाधिकार दिखाने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि विपक्ष को सदन के अंदर रुकने नहीं देने की योजना बनाने की बजाय, अगर आपको ऐसा लगता है, तो विपक्ष को समिति में भेज दें या उन्हें निलंबित कर दें। देश को आपके और मोदी जी के बजाय साझा देशभक्ति दिखाने का समय है।

इस घटना का मुख्य बिंदु यह है कि 7 अगस्त को आम आदमी पार्टी के सांसद राघव चड्ढा पर उनके द्वारा पांच सांसदों के नामों का प्रस्ताव दिल्ली ट्रांसफर-पोस्टिंग बिल को सेलेक्ट कमेटी के पास भेजने का आरोप लगा था, लेकिन चयर की तरफ से हरिवंश ने नाम पढ़ने पर सदस्यों द्वारा इनकार किया गया था। इसके साथ ही यह भी महत्वपूर्ण है कि सलेक्ट कमेटी के लिए राघव चड्ढा ने सुधांशु त्रिवेदी, नरहरि अमीन, थम्बी दुरई, सस्मित पात्रा और नागालैंड की सांसद पी कोन्याक के नामों का प्रस्ताव दिया था।

(आप हमें फ़ेसबुकइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here