Nuclear Test Sites: दुनिया की तीन महाशक्तियां परमाणु युद्ध की कर रही तैयारी

0
72

न्यूज़ डेस्क: दुनिया भर में रोज़ाना, देशों के बीच तनाव के बाद, परमाणु हमलों का खतरा मंडराता रहता है। इस बीच, एक अध्ययन में ऐसी खुलासा हुआ है जो विश्व की तनाव को बढ़ा सकता है। इस अध्ययन में पाया गया है कि हाल के सालों में चीन (China), रूस (Russia)और अमेरिका (USA) ने अपने न्यूक्लियर परीक्षण साइट (Nuclear Test Sites) पर नए संयंत्र बनाए हैं और सुरंगे खोदी हैं।

सीएनएन ने कुछ ऐसे सैटेलाइट चित्रों को प्राप्त किया है जिनमें संयंत्रों और सुरंगों का पता चलता है। हालांकि इसके लिए कोई प्रमाण नहीं है कि रूस, अमेरिका या चीन परमाणु परीक्षण की योजना बना रहे हैं, लेकिन नॉन-प्रोलिफरेशन स्टडी की तस्वीरों में पिछले कुछ सालों में तीनों प्रमुख न्यूक्लियर परीक्षण क्षेत्रों में विस्तार दिखता है।

पहली तस्वीर में, चीन के सबसे पश्चिमी इलाके, झिंजियांग, दिखाई देते हैं, दूसरी में, रूस के आर्कटिक महासागर द्वीपसमूह दिखाई देता है, और तीसरी तस्वीर में, अमेरिका के नेवादा रेगिस्तान है।

मिडिलबरी इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज के जेम्स मार्टिन सेंटर फॉर नॉन-प्रोलिफरेशन स्टडीज के सहायक प्रोफेसर जेफरी लुईस ने सीएनएन को बताया कि पिछले तीन से पांच सालों की सैटेलाइट तस्वीरों में पहाड़ों के नीचे नई सुरंगें, नई सड़कें, और भंडारण सुविधाएं दिखाई देती हैं। उन्होंने आगे कहा, “हम वास्तव में ऐसे कई संकेत देख रहे हैं जो इस बात का सुझाव देते हैं कि रूस, चीन और अमेरिका परमाणु परीक्षण की तैयारी कर रहे हैं।”

जेफरी लुईस ने बताया कि 1996 की व्यापक परमाणु परीक्षण प्रतिबंध संधि (सीटीबीटी) के तहत भूमिगत (अंडरग्राउंड) परमाणु परीक्षण पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद से किसी भी देश ने ऐसा नहीं किया है। चीन और अमेरिका ने संधि पर हस्ताक्षर किए हैं, लेकिन उन्होंने इसकी पुष्टि नहीं की है।

सीएनएन के मुताबिक, अमेरिकी वायुसेना के रिटायर कर्नल सेड्रिक लीटन ने तीनों देशों के परमाणु संयंत्रों की तस्वीरों की समीक्षा की है, और वे भी मानते हैं कि ये देश परमाणु परीक्षण कर सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘यह बहुत स्पष्ट है कि तीनों देशों, रूस, चीन और अमेरिका ने न केवल अपने परमाणु संयंत्रों के आधुनिकीकरण में बल्कि परीक्षण के लिए आवश्यक गतिविधियों को तैयार करने में भी बहुत समय, प्रयास और पैसों का निवेश किया है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here